Bhajanlal government full budget 2024-25 is dull and directionless - Ashok Gehlot-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 15, 2024 12:55 pm
Location
Advertisement

भजनलाल सरकार का पूर्ण बजट 2024-25 नीरस और दिशाहीन - अशोक गहलोत

khaskhabar.com : बुधवार, 10 जुलाई 2024 5:12 PM (IST)
भजनलाल सरकार का पूर्ण बजट 2024-25 नीरस और दिशाहीन - अशोक गहलोत
जयपुर । पूर्व सीएम अशोक गहलोत ने भजनलाल सरकार के पूर्ण बजट 2024-25 को नीरस और दिशाहीन बताया है । गहलोत ने एक्स पर कहा कि आज राजस्थान सरकार द्वारा लाए गए बजट का शिक्षा, स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा से कोई सरोकार नहीं लगता है।

उन्होंने कहा कि इस बजट से ना जनता को राहत मिली है और ना ही कोई विकास का रोडमैप बन रहा है। पिछले 10 साल से जैसा केन्द्र सरकार का बजट नीरस एवं दिशाहीन होता है वैसे ही आज राजस्थान सरकार का बजट भी नीरस और दिशाहीन आया है ।

गहलोत ने कहा कि जनता को उम्मीद थी कि मोदी की गारंटी के मुताबिक पेट्रोल-डीजल की कीमतें कम की जाएंगी परन्तु ऐसा नहीं किया गया। बल्कि हमारी सरकार की महंगाई से राहत देने वाली योजनाओं जैसे 100 यूनिट फ्री बिजली, अन्नपूर्णा राशन किट, इन्दिरा रसोई, फ्री कृषि बिजली आदि के लिए कोई बजट आंवटन नहीं किया है यानी आने वाले दिनों में जनता को महंगाई का सामना करना पड़ेगा। बजट के दिन ही रोडवेज एसी बसों का किराया 10 पैसे प्रति किलोमीटर बढ़ाकर सरकार ने अपना उद्देश्य जाहिर कर दिया है।

पूर्व सीएम ने कहा कि सरकार ने बजट में नए ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस वे की DPR बनाने की घोषणा कर वाहवाही लेने का प्रयास किया है। हमारी सरकार प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 10 करोड़ रुपये सड़कों के लिए देती थी जिसे इस सरकार ने 5 करोड़ रुपये कर दिया है। यह दिखाता है कि ये सरकार काम में नहीं सिर्फ पैकेजिंग में भरोसा करती है।

उन्होंने कहा कि यह आश्चर्य की बात है कि 25 लाख रुपये राशि वाली चिरंजीवी बीमा योजना की जगह पर ये सरकार 5 लाख रुपये राशि की आयुष्मान भारत योजना को लागू करना चाहती है। चिरंजीवी योजना में राजस्थान का प्रत्येक परिवार कवर था पर आयुष्मान भारत में प्रदेश की 50% आबादी भी शामिल नहीं होगी। चिरंजीवी योजना में बड़ी संख्या में अस्पताल शामिल थे पर आयुष्मान योजना में अस्पतालों की संख्या बेहद कम है।

साथ ही OPS को लेकर भी भजनलाल सरकार की कोई राय बजट में नहीं आई है। केन्द्रीय वित्त मंत्री लगातार OPS का विरोध करती रही हैं परन्तु राज्य की वित्त मंत्री ने OPS पर कोई राय नहीं रखी जिससे राज्य के कर्मचारियों में असमंजस की स्थिति है। सरकार को OPS पर अपनी राय स्पष्ट करनी चाहिए।



वहीं पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा है कि यह बजट सिर्फ आंकड़ों और शब्दों का मायाजाल है । इस बजट में प्रतियोगिता थी कि कितनी बार मुख्यमंत्री भजनलाल का और कितनी बार प्रधानमंत्री का नाम आएगा । बजट की गरिमा को तार-तार किया गया है। इन्होंने चार लाख युवाओं को नौकरी देने की बात की है । ये किस विभाग में नौकरियां निकालेंगे? कहां से नौकरियां देंगे? । इनका कोई विजन नहीं है । जब तक केंद्र सरकार का बजट पेश नहीं हो जाता इनके पास कुछ भी नहीं है। यह बजट हवाहवाई बजट है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement