Sirf Ek Banda Kofi Hai creates history on Day 1, becomes most viewed film across languages-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 26, 2023 8:39 am
Location
Advertisement

पहले ही दिन सिर्फ एक बंदा काफी है ने रचा इतिहास, बनी सभी भाषाओं में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली फिल्म

khaskhabar.com : रविवार, 28 मई 2023 1:52 PM (IST)
पहले ही दिन सिर्फ एक
बंदा
काफी
है
ने रचा इतिहास, बनी सभी भाषाओं में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली फिल्म
पिछली 23 मई को प्रदर्शित हुई मनोज बाजपेयी की फिल्म सिर्फ एक बंदा काफी है ने मनोज बाजपेयी के चलते लोकप्रियता के नए आयाम स्थापित करने में सफलता प्राप्त कर ली है। यह फिल्म ओटीटी प्लेटफॉर्म जी5 पर देखी जा सकती है। अपूर्व सिंह कार्की द्वारा निर्देशित फिल्म सिर्फ एक बंदा काफी है सच्ची घटनाओं से प्रेरित, डायरेक्ट-टू-डिजिटल ओरिजिनल एक कोर्टरूम ड्रामा है। यह फिल्म यौन शोषण के आरोपी आसाराम बापू के खिलाफ केस लड़ने वाले वकील पीसी सोलंकी पर आधारित है। सिर्फ एक बंदा काफी है 23 मई को ओटीटी प्लेटफॉर्म जी5 पर रिलीज हुई। इसकी व्यूअरशिप ने रिकॉर्ड तोड़ दिया है। यह फिल्म पिछले एक साल में सभी भाषाओं में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली जी5 ऑरिजनल फिल्म बन गई है। सिर्फ एक बंदा काफी है की सफलता और क्रिटिक्स से मिल रही सराहना से मनोज बाजपेयी बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा, यह आश्चर्यजनक है कि 2 साल की कड़ी मेहनत, अथक रिहर्सल, शूटिंग और पोस्ट-प्रोडक्शन के बाद क्रू, सुपर्ण एस वर्मा, विनोद भानुशाली, निर्देशक अपूर्व सिंह कार्की और सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ और आद्रिजा सिन्हा जैसे अभिनेताओं सहित इतने सारे लोगों के योगदान का जश्न मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा, सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ की तारीफ हो रही है। आद्रीजा की तारीफ हो रही है और हर किसी अदाकारी को सेलिब्रेट किया जा रहा है। इससे मुझे भी इस फिल्म को सेलिब्रेट करने का मौका मिल रहा है। फिल्म को जिस तरह ऑडियंस से प्यार मिला है, उससे मैं बहुत खुश हूं और जनता का आभार जताता हूं कि उन्होंने इतना प्यार दिया। गौरतलब है कि सिर्फ एक बंदा काफी है सच्ची घटनाओं से प्रेरित है। यह अपूर्व सिंह कार्की द्वारा निर्देशित एक कोर्ट रूम ड्रामा है, जिसमें मनोज बाजपेयी वकील पीसी सोलंकी की भूमिका में हैं। फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे एक आम आदमी की इच्छाशक्ति और सेल्फ स्टाइल्ड गॉडमैन की ताकत के बीच की लड़ाई में हमेशा जीत इच्छाशक्ति की ही होती है और कोई भी आदमी कानून से ऊपर नहीं होता है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement