Gigi Hadid apologizes for post showing Israel torturing Palestinian children-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Mar 5, 2024 1:05 pm
Location
Advertisement

इजरायल द्वारा फिलिस्तीनी बच्चों पर अत्याचार करने वाली पोस्ट पर गिगी हदीद ने मांगी माफी

khaskhabar.com : गुरुवार, 30 नवम्बर 2023 5:17 PM (IST)
इजरायल द्वारा फिलिस्तीनी बच्चों पर अत्याचार करने वाली पोस्ट पर गिगी हदीद ने मांगी माफी
लॉस एंजेलिस। इजराइल पर बच्चों को कैदियों के रूप में रखने के अपने बयान पर पलटते हुए गिगी हदीद ने इंस्टाग्राम पर साझा की गई एक पोस्ट की तथ्यों की जांच नहीं करने के लिए माफी मांगी है।

मिरर यूके की रिपोर्ट के अनुसार, 28 वर्षीय मॉडल ने कहा कि वह यह समझाने की कोशिश कर रही थीं कि फिलिस्तीनी बच्चों को अक्सर समान अपराध के आरोपी इजरायली बच्चों की तरह समान अधिकार नहीं दिए जाते हैं।

हालांकि, उन्होंने अहमद मनसरा के उदाहरण का उपयोग करने के लिए माफी मांगी, जिन्हें 2015 में कब्जे वाले पूर्वी यरुशलम में एक अवैध इजरायली बस्ती पिसगाट जीव में दो इजरायली नागरिकों को चाकू मारने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

मनसरा जो अब 21 साल का है, उसे 13 साल की उम्र में गिरफ्तार किया गया था और इजरायली अधिकारियों ने उससे पूछताछ की थी। एमनेस्टी के अनुसार वह तब से जेल में है और उसे गंभीर मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं हो गई हैं। सोशल मीडिया पर अपने मामले का जिक्र करने और प्रतिक्रिया का सामना करने के बाद गिगी ने माफी मांगते हुए कहा कि उसने दोबारा पोस्ट करने से पहले इस बारे में गहराई से नहीं सोचा था।

मिरर यूके के अनुसार मॉडल ने इंस्टाग्राम पर लिखा, ''फिलिस्तीनी मूल के व्यक्ति के रूप में गाजा से आने वाली अंतहीन दिल दहला देने वाली खबरें और तस्वीरें दर्दनाक और अक्सर अभिभूत करने वाली रही हैं। मेरे लिए कठिनाइयों के बारे में वास्तविक कहानियां साझा करना महत्वपूर्ण है जिसे फ‍िलिस्तीनियों ने सहा है और सहना जारी रखा है, लेकिन इस सप्ताह के अंत में मैंने कुछ ऐसा साझा किया जिसके बारे में दोबारा पोस्ट करने से पहले मैंने फैक्ट चेक नहीं किया था।''

उन्होंने आगे उल्लेख किया, “मैं यह दिखाना चाहती थी कि किस तरह से इजरायली सरकार द्वारा अंतरराष्ट्रीय कानून को कमजोर किया जा रहा है। इस मामले में मैं इस बात पर प्रकाश डालने की कोशिश कर रही थी कि कैसे आईडीएफ द्वारा गिरफ्तार किए गए फिलिस्तीनी बच्चों को अक्सर वही अधिकार नहीं दिए जाते हैं जो उसी अपराध के आरोपी इजरायली बच्चे को दिए जाते हैं। दुर्भाग्य से मैंने उस बात को समझाने के लिए गलत उदाहरण का इस्तेमाल किया और मुझे इसका अफसोस है।''

उन्होंने अपने 79.1 मिलियन फॉलोअर्स को लिखा, "मेरा ध्यान मानवाधिकार के मुद्दों पर केंद्रित था। यही कारण है कि मैं यह भी दोहराना चाहती हूं कि किसी भी इंसान पर हमला करना, जिसमें निश्चित रूप से यहूदी लोग भी शामिल हैं, कभी भी ठीक नहीं है। निर्दोष लोगों को बंधक बनाना कभी भी ठीक नहीं है। किसी को नुकसान पहुंचाना क्योंकि वे यहूदी हैं -- यह कभी भी ठीक नहीं है। यह गलत है। फिलीस्तीनियों के लिए स्वतंत्रता और मानवीय व्यवहार और यहूदी लोगों के लिए सुरक्षा दोनों एक ही व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण हो सकते हैं, जिसमें मैं भी शामिल हूं।''

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement