Violence on the family: When a girl killed her sisters in anger-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 22, 2024 8:34 pm
Location
Advertisement

परिवार पर हिंसा का प्रकोप : जब एक लड़की ने गुस्से में आकर बहनों की हत्या कर दी

khaskhabar.com : शनिवार, 13 जनवरी 2024 1:58 PM (IST)
परिवार पर हिंसा का प्रकोप : जब एक लड़की ने गुस्से में आकर बहनों की हत्या कर दी
इटावा (यूपी)। इटावा के बलराई पुलिस स्टेशन की सीमा के बहादुरपुर गांव में अक्टूबर की एक गर्म दोपहर थी, जब जयवीर पाल और उनकी पत्नी सुशीला अपनी तीन बेटियों को घर में छोड़कर काम करने के लिए बाहर गए थे।


दो छोटी बेटियां, सुरभि (7) और रोशनी (5), खेलने के लिए बाहर चली गईं, जबकि, उनकी बड़ी बहन 18 वर्षीय अंजलि घर में ही रह गई।

जैसे ही सूरज ढलने लगा, सुरभि और रोशनी घर लौट आईं और अपनी बहन की तलाश करने लगीं, लेकिन, वह कहीं नहीं मिली।

इसके बाद लड़कियों ने घर के पीेछे के कमरे का दरवाजा खोला और अंजलि को उसके प्रेमी अमन के साथ आपत्तिजनक स्थिति में पाया। लड़कियों ने अंजलि और अमन के रिश्ते के बारे में अपने माता-पिता को बताने की धमकी दी।

गुस्से में अंजलि ने फावड़ा उठाया और एक लड़की पर वार कर दिया, जिससे वह बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ी। घबराकर दूसरी बहन मदद के लिए चिल्लाने लगी तो इस बार अमन ने उस पर फावड़े से वार कर दिया।

बारी-बारी से अंजलि और अमन लड़कियों को फावड़े से तब तक मारते रहे, जब तक उन्हें यकीन नहीं हो गया कि दोनों मर चुकी हैं।

हत्या करने के बाद अंजलि और अमन ने खुद को धोया और अमन मौके से भाग गया। फिर, अंजलि ने चारे का एक बंडल उठाया और खेत में चली गई, जहां उसके माता-पिता और भाई काम कर रहे थे। उसने सामान्य व्यवहार किया और कहा कि बहनें घर पर खेल रही थीं।

वह अपने परिवार के सदस्यों के साथ छोटी-छोटी बातें करती रही और एक घंटे बाद अंजलि अपने माता-पिता और भाइयों के साथ घर लौट आई।

वह उस कमरे में चली गई, जहां उसकी बहनें खून से लथपथ पड़ी थीं और चिल्लाकर अपने परिवार को बुलाया। जब उसके माता-पिता ने पूछताछ की तो उसने हत्याओं के बारे में पूरी तरह से अनभिज्ञता जताई।

पुलिस को बुलाया गया। लड़कियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया कि उन पर किसी कुंद सामान से आघात किया गया था और कोई यौन उत्पीड़न नहीं हुआ था।

पूछताछ के दौरान अंजलि ने घर में मौजूद रहने के समय और अपनी बहनों को छोड़कर खेत में क्यों गई थी, इस बारे में विरोधाभासी बयान दिए। लगातार पूछताछ में वह टूट गई और हत्या की बात कबूल कर ली।

लड़कियों की हत्या में प्रयुक्त फावड़ा भी बरामद कर लिया गया। उसकी गिरफ्तारी के कुछ ही घंटों के भीतर उसके प्रेमी अमन को भी गिरफ्तार कर लिया गया और दोनों अब जेल में हैं।

उस समय इटावा में तैनात एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, यह गुस्से में किया गया अपराध था। अंजलि ने अपनी बहनों को यह समझाने का कोई प्रयास नहीं किया कि वे माता-पिता को कुछ न बताएं या उन्हें उपहारों का लालच नहीं दिया। उसने सीधे फावड़ा उठाया और बच्चियों पर दे मारा। हत्याओं के कुछ घंटों बाद भी, उसने कोई पछतावा नहीं दिखाया।

मनोवैज्ञानिक डॉ. एसके सत्यार्थी के मुताबिक, अंजलि के मामले से संकेत मिलता है कि लड़की अपने प्रेमी के साथ अपने रिश्ते को छोड़ना नहीं चाहती थी और अपनी बहनों को मारने में संकोच नहीं करती थी।

यह जुनून से हुआ क्रोध का अपराध था, जो काफी हद तक अमरोहा जिले के शबनम मामले जैसा था। शबनम और उसके प्रेमी ने परिवार के आठ सदस्यों को जहर मिली चाय पिलाकर मार डाला क्योंकि वे उनके रिश्ते के विरोध में थे। ऐसे मामले बढ़ रहे हैं क्योंकि अधिकांश किशोर शारीरिक प्रेम पर केंद्रित हैं, उनके लिए भावनात्मक महत्व बहुत कम मायने रखता है।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement