Udaipur. Controversial incident in Mohanlal Sukhadia University of Udaipur, ABVP workers accused of misbehaving with professor-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 24, 2024 2:35 am
Location
Advertisement

एमएलएसयू में विवादित घटना : एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर प्रोफेसर के साथ अभद्रता करने, प्रोफेसर पर हिंदू देवताओं पर गलत टिप्पणी का आरोप

khaskhabar.com : मंगलवार, 11 जून 2024 3:54 PM (IST)
एमएलएसयू में विवादित घटना : एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर प्रोफेसर के साथ 
अभद्रता करने, प्रोफेसर पर हिंदू देवताओं पर गलत टिप्पणी का आरोप
उदयपुर। मोहनलाल सुखाड़िया यूनिवर्सिटी (एमएलएसयू) में हाल ही में एक विवादित घटना सामने आई है, जिसमें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं पीएचडी कोर्स के लिए लेक्चर लेने आए प्रोफेसर हिमांशु पंड्या के साथ अभद्रता करने, नारेबाजी कर क्लास नहीं लेने देने का आरोप लगाया गया है। एबीवीपी पदाधिकारियों के मुताबिक विरोध की वजह प्रोफेसर पंड्या ने हिंदू देवी देवताओं पर गलत टिप्पणी की थी और अपनी फेसबुक पर बाबरी मस्जिद विध्वंस को लेकर गलत पोस्ट की थी।


घटना के मुताबिक मोहनलाल सुखाड़िया यूनिवर्सिटी में 6 से 8 जून तक पीएचडी कोर्स के लेक्चर देने के लिए हिंदी के प्रोफेसर हिमांशु पंड्या को बुलाया गया था। इस कार्यक्रम की संयोजक डॉ. सुधा चौधरी थीं। दरअसल 8 जून को कुछ लोग प्रो. पंड्या की क्लास में आकर बैठे और हंगामा शुरू कर दिया। उनके पास प्रो. पंड्या के फेसबुक पोस्ट के प्रिंट थे जो छात्रों को बांटे गए। इसमें स्मृति बाबरी मस्जिद शीर्षक के साथ बाबरी मस्जिद विध्वर्स को लेकर टिप्पणी कर रखी थी।

इस दौरान एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने प्रो. पंड्या के साथ बहस की। नारेबाजी करते रहे इसलिए बहस आगे नहीं बढ़ सकी। उन्हें क्लास को छोड़कर जाना पड़ा। प्रो. पंड्या का कहना था कि छात्रों का एक समूह उनके बाहर जाने तक नारेबाजी करते रहे। इन छात्रों ने उन पर फिलिस्तीन समर्थक होने के आरोप लगाए।

जब इस बारे में अखिल भारतीय विद्याार्थी परिषद (एबीवीपी) के पदाधिकारियों से बातचीत की गई तो उनका कहना था कि कार्यकर्ताओं पर अभद्र व्यवहार करने के गलत आरोप लगाए गए हैं। हिंदू देवी देवताओं पर गलत टिप्पणी को लेकर हमारा विरोध था। हमारा मानना है कि अगर कोई शिक्षक है तो उसको धर्म पर बहस और टिप्पणी से दूर रहना चाहिए। उन्होंने बताया कि फिलिस्तिन समर्थन को लेकर नारेबाजी नहीं की गई। कार्यक्रम संयोजक डॉ. सुधा चौधरी पर भी उन्होंने आरोप लगाया कि वे भी इस तरह की टिप्पणी कर चुकी हैं।

हालांकि कार्यक्रम संयोजक डॉ. सुधा चौधरी ने कुलपति को इस घटना के बारे में लिखित में जानकारी देकर ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। उधर, उदयपुर लोकतांत्रिक पसंद जनसंगठन ने बुधवार को जिला कलेक्ट्री पर प्रदर्शन करने का निर्णय किया है। वे ऐसे लोगों के खिलाफ अपराधिक केस दर्ज करने की मांग कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement