Struggle for power: Confused and scattered opposition lost elections-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
May 26, 2024 7:34 am
Location
Advertisement

सत्ता का संग्राम : भ्रमित और बिखरे हुए विपक्ष का हारा हुआ चुनाव

khaskhabar.com : मंगलवार, 16 अप्रैल 2024 1:02 PM (IST)
सत्ता का संग्राम : भ्रमित और बिखरे हुए विपक्ष का हारा हुआ चुनाव
साल 2024 के आम चुनाव प्रारम्भ होने वाले हैं। पहले चरण का चुनाव 19 अप्रेल को होगा और अब जबकि मतदान होने में तीन दिन बाकी बचे हैं, भाजपा के अलावा विपक्षी दल मतदाताओं को यह बता पाने में विफल रहे हैं कि उन्हें वोट क्यों दिया जाए और भाजपा को क्यों नहीं? दस साल सत्ता से बाहर रहने के बाद भी ये दल भाजपा के खिलाफ एक वैकल्पिक नेतृत्व और कार्य योजना तक नहीं बना सके।




इससे तो यह ही सिद्ध हो रहा है कि विपक्ष सिर्फ खानापूर्ति के लिए ही चुनाव मैदान में है। इन चुनावों का सबसे मजेदार और रोचक तथ्य यह है कि कथित इंडिया एलांयस में जितने भी दल हैं, सबके अपने-अपने घोषणा पत्र हैं। सबकी अपनी-अपनी दुनिया है, सबके अपने-अपने सपने और वादे हैं। ऐसा कहीं से नहीं लगता कि विपक्ष एकजुट है और वो भाजपा सरकार के कामकाज के विरोध में एक मजबूत कार्य योजना को मतदाता के सामने प्रस्तुत कर रहे हैं।



वे केवल जातीय वैमनस्यतायुक्त समीकरण, मुस्लिम वोट बैंक के तुष्टिकरण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आलोचना, विदेशों में बैठे भारत विरोधियों की मदद और जांच एजेसियों की भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ की जा रही कार्यवाही के विरोध में जनता से वोट मांगने जा रहे हैं। इसमें एक रोचक तथ्य यह भी है कि इंडिया एलाएंस अपनी कमजोरी, बौनेपन और नाकामी का श्रेय भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को देते हुए आरोपित कर रहे हैं कि उनके कारण विपक्ष सशक्त नहीं हो पा रहा है।
हां, एक बात जरूर है कि ये सभी दल भारत के मुस्लिम मतदाताओं पर निर्भर हैं, उनका यह मानना है कि भारत के मुस्लिम मतदाता किसी भी और कैसी भी हालत में भारतीय जनता पार्टी के विरोध में उनको ही अपना वोट देंगें। इसी लालच में इन दलों में ना केवल सनातन धर्म परम्परा का मजाक उडाया है अपितु राम जन्मभूमि पर बने मंदिर के लोकार्पण में जाने से भी मना कर दिया।
यह भी रोचक तथ्य है कि भाजपा के दस साल के राज से सर्वाधिक दुखी और त्रस्त कांग्रेस जो स्वयंभू रूप से इस विपक्षी एकजुटता का नेतृत्व कर रही है, वो स्वयं भारत के इतिहास में सबसे कम सीटों पर चुनाव लड़ रही है। भारत की संसद में बहुमत के लिए 272 का आंकड़ा जरूरी है और कांग्रेस 278 सीटों पर ही चुनाव लड़ रही है। केवल इसी एक तथ्य से समझा जा सकता है कि भाजपा को सत्ता से बाहर कर देने की विपक्ष की इच्छा कितनी बलवती और प्रभावी है?



इसमें भी विचार करने लायक तथ्य यह है कि उत्तर प्रदेश (80), बिहार (40), पश्चिम बंगाल (42), तमिलनाडू (39) और महाराष्ट्र (48) की 249 सीटों पर कांग्रेस सिर्फ 65 सीटों पर ही चुनाव लड़ रही है। तो क्या कांग्रेस की इस स्थिति को सहयोगी दलों के लिए उसका समर्पण माना जा सकता है? या ये स्थिति यह बता रही है कि कांग्रेस की राजनीतिक जमीन इन राज्यों में खत्म होने की ओर है और यह संभव है कि अगले लोकसभा चुनावों में कांग्रेस इस स्थिति में भी नहीं रहेगी कि उसे कोई अन्य राजनीतिक दल अपने बडे़ और प्रभावी राजनीतिक साझीदार के रूप में स्वीकार करे।
राजस्थान जैसे राज्य में जहां कांग्रेस चार महीने पहले तक सत्ता में थी। वहां उन्होंने तीन सीटें सीकर, नागौर और बांसवाड़ा समझौते में अन्य दलों को दे दी। इसका अर्थ यह है कि कांग्रेस में वह नैतिक साहस भी नहीं बचा है कि जहां वह अपने बूते चुनाव लड़ सकती थी। वहां, पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ती। तो एक नैतिक रूप से पलायन कर चुके विपक्ष के सामने यदि भारतीय जनता पार्टी 370 और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन 400 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य रखता है तो इसमें किसी आश्चर्य की बात करना राजनीतिक रूप से नासमझी ही कहा जाएगा।



समस्या यह है कि वर्तमान विपक्ष मोदी सरकार की सत्यनिष्ठा, प्रतिबद्धता और प्रमाणिकता की आलोचना भले ही कर ले, पर वो मोदी सरकार को दागदार बता पाने में विफल रहा है। राफेल से लेकर इलैक्ट्रॉल बांड तक जितने भी मुद्दों को लेकर विपक्ष हमलावर हुआ है, वे सब विपक्ष के लिए ही नुकसानदेह साबित हुए हैं। इससे जनता में मोदी सरकार के प्रति ही विश्वास में बढ़ोतरी हुई है।
विपक्ष की यह स्थिति तब तक रहेगी, जब तक अन्य विपक्षी दल कांग्रेस से और कांग्रेस अंततः गांधी परिवार से अपने आपको मुक्त नहीं कर लेती। असल में गांधी परिवार युक्त कांग्रेस एक अघोषित राजवंश में चापलूसों, राग दरबारियों और षडयंत्रकारियों का समूह भर है, जो बिना सत्ता के रह नहीं पा रहा और उसको किसी भी हालत में सत्ता में वापसी चाहिए।



लेकिन उस राजवंश में उन लोगों का कोई स्थान नहीं है, जो राजनीतिक रूप से योग्य और समझदार हों। जो जनता की संवेदनाओं के साथ एकात्म हों। भारतीय राजनीति का यह दौर नए और प्रभावी नेतृत्व के उभार का है। जनता हर उस नेता को मान सम्मान देने के लिए आतुर है, जो उनके बीच का है, उन जैसा है और उनको समझता है। चाहे वो रेवंत रेडडी हों, के अन्नामलाई हों, सचिन पायलेट हों या हेमंत विश्व सरमा।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement