security not proper in philibhit -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 12, 2024 10:31 pm
Location
Advertisement

सुरक्षा के नाम पर जगह जगह एलान करके खानापूर्ति

khaskhabar.com : सोमवार, 14 अगस्त 2017 7:17 PM (IST)
सुरक्षा के नाम पर जगह जगह एलान करके खानापूर्ति
पीलीभीत। पता नहीं नरभक्षी वाघ कब पकड़ा जाएगा। पीड़ित ग्रामीणों को तो कतई नहीं लगता है की वन विभाग शायद कुछ कर पायेगा। बाघ की दहशत का आलम ये है कि प्रभावित क्षेत्र के लोग घरों से निकलने में कतरा रहे है। विद्यालय बंद है और सड़कें सूनी पड़ी है। विभाग की ट्रेकिंग टीम को आदमखोर बाघ के देवहा नदी के किनारे दहगला गांव पास में पगमार्ग मिले है । बस इसी को अपनी बहुत बड़ी सफलता मानकर वन विभाग फुले नहीं समा रहा है। वन विभाग ने आदमखोर को पहचान कर एक फोटो भी निकाला है। यह फोटो 4 अगस्त को एक ट्रैप कैमरा के कैद हुआ था। बाघ का आतंक कम करने के नाम पर विभाग ने शहर व गाँव में एलान करवाया है।

वन अधिकारियों की मानें तो उसे पीलीभीत टाइगर रिज़र्व से निकलकर 20 किलोमीटर के दायरे में आतंक का पर्याय बने बाघ को वन विभाग ने ट्रेस कर लिया है। इस बीच यह बाघ तीन किसानों को अपना निवाला बना चुका है। वन विभाग की टीमें पिछले 5 दिनों से बाघ को ट्रैक करने के लिए खाक छान रही थी। रविवार को वन विभाग को ट्रेकिंग के दौरान बाघ की लोकेशन मिल गई। वन विभाग को बाघ ट्रेकिंग के दौरान ड्रोन कैमरे के जरिए देवहा नदी के किनारे दहगला गाँव के पास बाघ के पगमार्क मिले है। जिसके जरिये अब वन विभाग के अधिकारी जल्द बाघ पकड़ने का दावा कर रहे है | विभाग ने आदमखोर बाघ का फोटो भी जारी किया है जो 4 अगस्त को दहगला गाँव में ट्रैप कैमरे में कैद हुआ था।

विभाग के विशेषज्ञ एक ही बाघ को आदमखोर मान रहे है जो उन्होंने लोकेट कर लिया है। ग्रामीणों के अनुसार टाइगर रिज़र्व के बाहर 5 बाघों को देखा गया है। बाघ की दहशत कम करने के लिए बरेली मंडल के वन संरक्षक वी.के. सिंह ने बताया कि शहर व किनारे के 17 गाँव को चिन्हित कर करके वहां ऐलान करवाया जा रहा है। जिसमें बाघ के वन क्षेत्र शहर के आसपास होने की बात कही जा रही है। लिहाजा रात में कम निकलने व निकलने पर झुंड बना कर निकलने के लिए ताकीद किया जा रहा है।
वन महकमा बाघ को जल्द पकड़ने का दावा जरूर कर रहा है,लेकिन इन दावों पर आम जन्य को तो यकीन कतई नही है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement