PM Modi becomes first PM to attend Kullu Dussehra-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 2, 2022 3:32 pm
Location
Advertisement

कुल्लू दशहरा में शामिल होने वाले पहले पीएम बने मोदी

khaskhabar.com : बुधवार, 05 अक्टूबर 2022 9:33 PM (IST)
कुल्लू दशहरा में शामिल होने वाले पहले पीएम बने मोदी
कुल्लू । विश्व प्रसिद्ध कुल्लू दशहरा उत्सव के लगभग 400 वर्षों के इतिहास में, नरेंद्र मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जो इसमें शामिल हुए। पीएम मोदी ने करीब 300 देवी-देवताओं की मौजूदगी में कुल्लू घाटी के प्रमुख देवता भगवान रघुनाथ को नमन किया।

कोरोनो वायरस महामारी के कारण दो साल के लॉकडाउन प्रतिबंधों के बाद एक बार फिर हजारों भक्तों की भीड़ के साथ, भगवान रघुनाथ के रथ को दशहरा या विजय दशमी के पहले दिन यहां के सुल्तानपुर के ऐतिहासिक मंदिर से बाहर निकाला गया। राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर और मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के साथ पारंपरिक हिमाचली टोपी पहने प्रधानमंत्री मोदी ने धार्मिक उत्साह के साथ 'रथ यात्रा' देखी।

इस दौरान पीएम मोदी प्रोटोकॉल तोड़कर रघुनाथ जी के रथ तक पहुंचे और उनका आशीर्वाद लिया। मोदी कुल्लू दशहरा उत्सव में शामिल होने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री हैं। उन्होंने लगभग डेढ़ घंटे तक तुरही और ढोल की थाप के बीच रथ यात्रा को देखा। जब प्रधानमंत्री मुख्य देवता को नमन कर रहे थे, उस समय भीड़ को प्रबंधित करने का कार्य भगवान रघुनाथ के सेकंड-इन-कमांड देवता नाग धूमल के पास था।

त्योहार से जुड़े एक सरकारी अधिकारी ने बताया, सदियों से यह परंपरा रही है कि जब भगवान रघुनाथ की रथ यात्रा निकाली जाती है तो नाग धूमल सड़क को साफ करते हैं और भीड़ को नियंत्रित करते हैं। कुल्लू दशहरा के दौरान इकट्ठे देवता, जो आम तौर पर 250 तक होते हैं, जुलूस के दौरान मुख्य देवता के साथ जाते हैं। इस बार वह सभी 11 अक्टूबर को उत्सव के समापन तक ढालपुर मैदान में रहेंगे।

राज्य की राजधानी से करीब 200 किलोमीटर दूर कुल्लू शहर पहुंचने से पहले मोदी ने एम्स बिलासपुर की सौगात दी। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के गृहनगर बिलासपुर शहर में कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास भी किया।

कुल्लू दशहरा उत्सव का समापन ब्यास नदी के तट पर 'लंका दहन' अनुष्ठान के साथ होता है। जिसमें सभी एकत्रित देवता भाग लेते हैं। त्योहार की शुरुआत 1637 में हुई जब राजा जगत सिंह ने कुल्लू पर शासन किया। उन्होंने दशहरे के दौरान कुल्लू के सभी स्थानीय देवताओं को भगवान रघुनाथ के सम्मान में एक अनुष्ठान करने के लिए आमंत्रित किया था। तब से, सैकड़ों ग्राम मंदिरों से देवताओं की वार्षिक सभा एक परंपरा बन गई है। भारतीय रियासतों के उन्मूलन के बाद, जिला प्रशासन देवताओं को आमंत्रित करता रहा है। कुल्लू प्रशासन द्वारा संकलित एक संदर्भ पुस्तक के अनुसार, कुल्लू घाटी में 534 'जीवित' देवी-देवता हैं, जिन्हें लोकप्रिय रूप से देवभूमि या देवताओं के निवास के रूप में भी जाना जाता है।

एक साल के शोध के बाद संकलित 583 पन्नों की किताब कहती है- यहां, देवता आज्ञा देते हैं और लोग आज्ञा मानते हैं। यहां के देवता मूर्तियां नहीं हैं, मंदिरों में विराजमान हैं, वो जिंदा हैं। देवता लोगों के बीच जीवित रहते हैं और अपने अनुयायियों से बात करते हैं और उन्हें बताते हैं कि उन्हें क्या करना है। उनके परिवार और रिश्तेदार हैं जो समारोह में उनके साथ शामिल होते हैं।

पुस्तक में कहा गया है कि कुल्लू देवताओं के मामलों का प्रबंधन 'देवता' समितियों द्वारा किया जाता है, जिसमें एक 'कारदार' या मंदिर का प्रबंधक, 'गुर' या दैवज्ञ और एक पुजारी शामिल होते हैं। हर साल कुल्लू दशहरा के लिए 250 से अधिक देवी-देवता इकट्ठे होते हैं।

किताब में कहा गया है कि देवता अपने अनुयायियों के निमंत्रण को स्वीकार करते हैं और उनकी इच्छा के अनुसार विभिन्न स्थानों पर चले जाते हैं। कभी-कभी वे तीर्थ यात्रा करने का निर्णय लेते हैं। कोई एक-दो साल बाद ऐसा करता है, कोई 30 से 40 साल बाद ऐसा करता है और कुछ सैकड़ों साल बाद विशेष तीर्थयात्रा पर निकल पड़ते हैं।

देवता 'गुर' को बुलाते हैं और उसके माध्यम से बोलते हैं। दैवज्ञ समाधि में चला जाता है और देवता से जुड़ जाता है। देवता की इच्छा से अनुयायी पवित्र आज्ञा का पालन करने के लिए तैयार होते हैं। प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को इसमें शामिल होना होता है। कोई भी देवता के 'रथ' या पालकी को नहीं उठा सकता है यदि वह इच्छुक नहीं है।

पुस्तक कहती है कि लंबी और कठिन यात्रा पैदल ही करनी है। इसमें दिन, महीने भी लगते हैं। सख्त नियमों और अनुष्ठानों का पालन करना होता है। देवता यात्रा का समय और गति निर्धारित करते हैं।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement