No Sanskrit, so Rajasthan Navodaya students opt for Gujarati, Marathi as 3rd language-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 1, 2022 4:55 pm
Location
Advertisement

राजस्थान में संस्कृत नहीं, नवोदय विद्यालय के छात्र तीसरी भाषा में चुनते हैं गुजराती, मराठी

khaskhabar.com : रविवार, 21 अगस्त 2022 11:46 AM (IST)
राजस्थान में संस्कृत नहीं, नवोदय विद्यालय के छात्र तीसरी भाषा में चुनते हैं गुजराती, मराठी
जयपुर । ऐसे समय में जब मौजूदा केंद्र सरकार संस्कृत को अपने मुख्य एजेंडे के रूप में प्रचारित कर रही है, नवोदय विद्यालयों में प्राचीन भाषा अनुपलब्ध है, जिसके कारण राजस्थान में छात्र इन स्कूलों में अन्य क्षेत्रीय भाषाओं जैसे मराठी, गुजराती आदि सीख रहे हैं, भले ही उनमें से कई संस्कृत सीखने को उत्सुक हैं।

दरअसल, केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय के तहत चलाए जा रहे इन प्रतिष्ठित स्कूलों में क्षेत्रीय भाषाओं में शिक्षकों की भर्ती के लिए हाल ही में हुई घोषणा में भी संस्कृत भाषा को कोई नहीं मिली है, जिससे संस्कृत के विद्वान नाराज हैं।

अधिकारियों ने आईएएनएस को बताया, हिंदी और अंग्रेजी के अलावा बोडो, असमिया, गारो, खासी, कन्नड़, मराठी, मिजो, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, तमिल तेलुगु, उर्दू आदि भाषाओं के लिए शिक्षकों के लिए अवसर हैं, लेकिन संस्कृत को अभी तक इस सूची में जगह नहीं मिली है। यह साबित करता है कि इन स्कूलों में संस्कृत भाषा लाने की केंद्र सरकार की तत्काल कोई योजना नहीं है।

जगद्गुरु रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय, जयपुर के सहायक प्रोफेसर कोसलेंद्र दास ने कहा, "संस्कृत सभी भारतीय भाषाओं की नींव है। यदि सरकार भारतीय साहित्य को बढ़ावा देने की इच्छुक है, तो संस्कृत भाषा का प्रचार और संरक्षण सर्वोपरि है।"

उन्होंने सवाल किया कि यदि आप प्रारंभिक स्तर पर संस्कृत को नष्ट कर देते हैं तो आप बांग्ला, राजस्थानी, मलयाली, कन्नड़, गुजराती या किसी अन्य भाषा में विदेशी भाषाओं से आने वाले नए शब्द कैसे बनाएंगे।

क्या संस्कृत को बचाना भारत सरकार का काम नहीं है जो सभी भारतीय भाषाओं की नींव है? यह साहित्य अकादमी चला रहा है जो विभिन्न भारतीय भाषाओं में निर्मित साहित्य के लिए पुरस्कार देता है। राज्य में भी सरकारों द्वारा बहुत सारी अकादमियां चलाई जा रही हैं, यदि संस्कृत को बढ़ावा नहीं दिया जा रहा है, तो ऐसी अकादमियों का महत्व कम हो जाता है और उन्हें बंद कर दिया जाना चाहिए और सरकार को एकल भाषा खिड़की जो अंग्रेजी है।

जगद्गुरु रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त प्रोफेसर राजेंद्र मिश्रा ने कहा, "संस्कृत हमारे देश की सबसे प्राचीन भाषा है और यह आश्चर्य की बात है कि हमने इस भाषा को स्कूलों से घटा दिया है और अन्य भाषाओं को प्राथमिकता दी है। यह भाषा के साथ अन्याय है। यह समय की मांग है कि इस भाषा को छात्रों की पहली प्राथमिकता के रूप में शीर्ष पर रखा जाए और यदि आवश्यक हो तो अन्य भाषाओं को हटा दिया जाए।"

उन्होंने कहा, "उन छात्रों के नुकसान की भरपाई के लिए एक नया पाठ्यक्रम आना चाहिए, जबकि स्कूलों में पढ़ने वालों को संस्कृत सीखने का विकल्प दिया जाना चाहिए।"

इस बीच, मंत्रालय के निर्धारित मानदंडों के अनुसार, नवोदय विद्यालयों की योजना ने 3-भाषा फॉमूर्ला लागू किया है। हिंदी भाषी जिलों में पढ़ाई जाने वाली तीसरी भाषा छात्रों के पलायन से जुड़ी है। सभी नवोदय विद्यालय इस सूत्र का पालन करते हैं अर्थात क्षेत्रीय भाषा, अंग्रेजी और हिंदी।

अधिकारियों ने कहा, "इन मानदंडों के अनुसार, नवोदय विद्यालयों में पढ़ने वाले राजस्थानी छात्र मराठी, गुजराती और कश्मीरी जैसी क्षेत्रीय भाषाओं का अध्ययन सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम के तहत कर रहे हैं।"

बीकानेर में मंत्रालय द्वारा चलाए जा रहे सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम के तहत नवोदय विद्यालयों के छात्र रत्नागिरि स्थित नवोदय विद्यालय से जुड़े हुए हैं, जिसमें विभिन्न राज्यों के दो स्कूल जुड़े हुए हैं। उन्हें खंड के अनुसार एक निर्धारित समय के लिए महाराष्ट्र के रत्नागिरि जाना है और मराठी को अपने विषय के रूप में सीखना है, क्योंकि जब वे महाराष्ट्र में होते हैं तो यह उनके लिए अनुकूल होता है।

नवोदय स्कूल के एक अधिकारी ने आईएएनएस से बात करते हुए पुष्टि की, इसी तरह जोधपुर में तीसरी भाषा के रूप में गुजराती पढ़ने वाले छात्रों को उस कार्यक्रम के तहत गुजरात भेजा जाता है। जयपुर के अंतर्गत आने वाली पाओटा तहसील में गुजराती फिर से छात्रों के लिए तीसरी भाषा है। इसी तरह पंजाब के पास आने वाले गंगानगर में, जम्मू-कश्मीर भाषा है, जिसका अध्ययन छात्र कर रहे हैं।

नवोदय विद्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, "शिक्षा मंत्रालय ने हाल ही में एक डेटा सर्वेक्षण करने के लिए कहा है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि संस्कृत पढ़ने में कितने छात्र रुचि रखते हैं। परीक्षण के आधार पर शिक्षकों को संस्कृत पढ़ाने के लिए एजेंसी के आधार पर बुलाया जाता है। इस पर अच्छी प्रतिक्रिया मिली है और हम सरकार के अगले कदम का इंतजार कर रहे हैं।"

इस बीच, नवोदय विद्यालयों में हाल ही में हुई घोषणा में आश्चर्यजनक रूप से संस्कृत की उपेक्षा हुई है, जिसने पूरे रेगिस्तानी राज्य में संस्कृत के विद्वानों को नाराज कर दिया है।

हिंदी और अंग्रेजी के अलावा बोडो, असमिया, गारो, खासी, कन्नड़, मराठी, मिजो, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, तमिल तेलुगू, उर्दू आदि भाषाओं के लिए शिक्षकों के लिए अवसर उपलब्ध हैं, लेकिन संस्कृत को अभी तक इसमें जगह नहीं मिली है।

संस्कृत भारती अखिल भारतीय सह संगठन सचिव इस मुद्दे पर पूछे जाने पर जय प्रकाश गौतम ने कहा कि ये प्रशासन के मुद्दे हैं और सरकार को इस पर गौर करने की जरूरत है। अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग परिदृश्य हैं और हम इसका अध्ययन कर रहे हैं।

वह एक सेमिनार में भाग लेने के लिए ओडिशा में थे और इसलिए अधिक बात नहीं कर सके।

इस बीच, एक वरिष्ठ शिक्षक ने कहा, "पिछले 8 वर्षो में केंद्र सरकार नवोदय विद्यालयों में संस्कृत को तीसरी भाषा के रूप में शामिल नहीं कर पाई। आश्चर्यजनक रूप से संस्कृत केंद्रीय विद्यालयों में कक्षा 11 और 12 में भी विषय नहीं है। हमारे पास उन छात्रों के लिए कोई जवाब नहीं है जो स्कूलों में आकर संस्कृत भाषा की स्थिति के बारे में पूछताछ करते हैं।"

राजस्थान के छात्रों को एक और चुनौती का सामना करना पड़ा। राजस्थानी भाषा को अभी तक क्षेत्रीय भाषा का दर्जा नहीं दिया गया है। राजसमंद से भाजपा सांसद दीया कुमारी ने हाल ही में लोकसभा में संविधान (संशोधन) विधेयक-2022 पेश किया और संविधान की आठवीं अनुसूची में संशोधन कर राजस्थानी भाषा को शामिल करने का आग्रह किया।

एक अभिभावक ने कहा कि आखिरकार यहां के छात्र सबसे ज्यादा हारे हुए हैं, क्योंकि वे अपनी क्षेत्रीय भाषा या अपनी प्राचीन भाषा का अध्ययन नहीं कर सकते, लेकिन उन्हें दूर की क्षेत्रीय भाषाओं का अध्ययन करने के लिए मजबूर किया जाता है, जिनसे वे जुड़े नहीं हैं।

--आईएएनेस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement