Web Series Review: Juhi and Ayesha Julka expected a strong comeback, hush-hush disappointed-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Oct 6, 2022 3:50 am
Location
Advertisement

वेब सीरीज समीक्षा : हश-हश—सशक्त वापसी की उम्मीद थी जूही और आयशा जुल्का से, करती हैं निराश

khaskhabar.com : गुरुवार, 22 सितम्बर 2022 2:23 PM (IST)
—राजेश कुमार भगताणी

अमेजन प्राइम पर स्ट्रीमिंग हुई 7 एपिसोड की वेब सीरीज हश हश को देखने के लिए मैं बहुत बेसब्र था, कारण इस सीरीज के रास्ते दो बेहतरीन अभिनेत्रियाँ जूही चावला और आयशा जुल्का अभिनय में वापसी कर रही थी, लेकिन इसे देखने के बाद मन में विचार आया कि इन दोनों अभिनेत्रियों को किसी और बेहतरीन पटकथा के साथ वापसी करनी चाहिए था। हालांकि इस सीरीज का निर्माण उस निर्माता ने किया है जिसने हमें ब्रीथ, शेरनी और जलसा जैसी फिल्में दी हैं।

कथानक चार ऐसे दोस्तों के इर्दगिर्द है जिनके बारे में यह स्पष्ट नहीं है कि यह चारों कैसे और क्योंकर दोस्त बनी। हश हश एक धमाके के साथ शुरू होता है और पहले तीन एपिसोड तक यह दर्शकों को अपने साथ बांधने में सफल रहता है लेकिन चौथे एपिसोड के साथ ही यह सुलझना शुरू हो जाता है जिसके चलते दर्शक की जिज्ञासा पूरी तरह समाप्त हो जाती है।
एक थ्रिलर के रूप में, हश हश सेट-अप में कोई समय नहीं गंवाता है। ईशी (जूही चावला) के बाद, एक शक्तिशाली लॉबिस्ट भ्रष्टाचार के लिए राष्ट्रीय टीवी पर बाहर हो जाती है, उसके तीन दोस्त हैरान हैं। जायरा (शहाना गोस्वामी) एक सफल फैशन डिजाइनर है जिसका अपना लेबल है, डॉली (कृतिका कामरा) एक पत्नी और बहू है जो एक दबंग सास और एक असुरक्षित पति को प्रबंधित करने की कोशिश कर रही है, और साईबा (सोहा अली खान) एक पूर्व पत्रकार से गृहिणी बनी हैं। वे सभी उन अल्ट्रा-पॉश कॉन्क्लेव में से एक में रहते हैं जहाँ सब कुछ डिजाइनर, कार, कपड़े और कर्मचारी हैं, जो बाहरी दुनिया से अछूते हैं। लेकिन त्वरित उत्तराधिकार में होने वाली दो मौतों से सब कुछ पटरी से उतरने का खतरा है। वे यहाँ से कहाँ चले गए?

हश हश का निर्देशन तनुजा चंद्रा, कोपल नैथानी और आशीष पांडे ने मिलकर किया है। इनमें तनुजा चंद्रा हिन्दी फिल्मों की जानी मानी निर्देशिका हैं, जिन्होंने दर्शकों को संघर्ष सरीखी फिल्म दी है। सीरीज को लिखने में भी तनुजा चन्द्रा के साथ जूही चतुर्वेदी, आशीष मेहता और शिखा शर्मा शामिल हैं इनमें जूही चतुर्वेदी (जिन्होंने शुजित सरकार के लिए विक्की डोनर, मद्रास कैफे और पीकू लिखी) शामिल हैं। हश हश के संवाद जूही चतुर्वेदी ने ही लिखे हैं लेकिन यह उतने असरकारक नहीं हैं जो वे अपनी पिछली फिल्मों में दर्शकों को दे चुकी हैं। पटकथा में उत्साही महिला सिपाही गीता (करिश्मा तन्ना) द्वारा की गई जांच विश्वसनीय लगती है लेकिन कुछ समय बाद यह खिंचने लगती है। ईशी के अतीत की एक महिला (आयशा जुल्का) दिखाई देती है। लड़कियों के लिए एक आश्रय गृह, एक तस्करी रैकेट, अमीर और शक्तिशाली की भागीदारी, और सरगना जिसे आप साजिश से बहुत पहले देखते हैं।

सीरीज की कास्ट दिलचस्प है, लेकिन गोस्वामी और कामरा और तन्ना को छोडक़र उनके फिसलने वाले हरियाणवी उच्चारण के साथ, कोई भी वास्तव में बाहर नहीं खड़ा होता है। इसके बजाय, हम सवालों के साथ बचे हैं। एक श्रृंखला जो अपने छोटे हिस्सों के मचान में भयानक छोटे विवरणों को शामिल करने में परेशानी लेती है जैसे—एक चिकित्सक किसी को कैमरे से शोर कम करने के लिए कह रहा है क्योंकि उसका ग्राहक परेशान हो रहा है; एक अतिथि कलाकार पुलिस के साथ मिलकर गाना गा रहा है। इन दृश्यों की बोरियत से बचने के लिए दर्शक दृश्यों को आगे कर देता है। सीरीज की गति धीमी है जो कई बार आने वाले दृश्यों का पूर्व अहसास करवा देती है।

कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि जूही चावला बेहतर वापसी की हकदार हैं, जो हश हश पूरी नहीं करता है। यही हाल आयशा जुल्का का है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement