Film Review: Shaitan looks ineffective due to weak screenplay-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
May 23, 2024 3:55 pm
Location
Advertisement

फिल्म समीक्षा: कमजोर स्क्रीनप्ले के चलते असरहीन नजर आती है शैतान

khaskhabar.com : शुक्रवार, 08 मार्च 2024 4:54 PM (IST)


—राजेश कुमार भगताणी


आज से थियेटर्स में फिल्म शैतान रिलीज हो गई है। काले जादू और वशीकरण पर बनी इस डरावनी फिल्म की कहानी एक खुशहाल परिवार पर आधारित है, जिनपर एक शैतान हावी हो जाता है और उनकी जिंदगी तहस नहस कर देता है।


अजय देवगन-आर माधवन की 'शैतान' में, प्रतिपक्षी बुरे कार्यों का प्रदर्शन करता है, लेकिन उसके इरादे मायावी रहते हैं। फिल्म के ट्रेलर ने एक मनोरंजक फिल्म होने का संकेत दिया था, जिसकी बॉलीवुड में कमी रही है। शैतान में लेखक निर्देशक की जोड़ी पूर्वार्द्ध में दर्शकों की उत्सुकता बढ़ाने में सफल होते हैं, लेकिन उत्तरार्द्ध में वे जो कुछ परदे पर दिखाते हैं, उसे देखते हुए दर्शक बेचैन होने के साथ ही, उसके मन में कई सवाल खड़े हो जाते हैं। शैतान इस बात का उदाहरण है कि किस तरह से एक बेहतरीन ट्रेलर दर्शकों को सिनेमाघरों की ओर आकर्षित कर सकता है लेकिन पूरी फिल्म कैसे दर्शकों की उम्मीदों पर पानी फेर देती है।

फिल्म की सबसे बड़ी दिक्कत उसके लेखन में है। स्क्रीन राइटर आमिल कियान खान और कृष्णदेव याग्निक ने इसमें सस्पेंस और थ्रिल तो डाला लेकिन मोटिव डालना भूल गए। फिल्म में जो भी हो रहा है वो क्यों हो रहा है इसका जवाब किसी के पास नहीं है। ऐसे में फिल्म से जुड़ने में आपको दिक्कत होती है। आप जानना चाहते हैं कि वनराज कौन है और कबीर के परिवार के पीछे क्यों है? और भी कई सवाल आपके मन में उठते हैं जिनके जवाब आपको नहीं मिल पाते। यही फिल्म की सबसे बड़ी कमी है, जो आपका मजा खराब करती है।

एक आदमी एक परिवार के घर पर आक्रमण करता है और काले जादू के माध्यम से उनकी युवा बेटी पर नियंत्रण हासिल कर लेता है। माता-पिता असहाय होकर देखते हैं कि उनकी एक प्रतिभाशाली बेटी किसी अजनबी की इच्छा की कठपुतली बन जाती है। उसकी धुन पर नाचने से लेकर उसके पिता पर हमला करने और यहां तक कि उसके छोटे भाई को नुकसान पहुंचाने की कोशिश तक, 'शैतान' पूरा नियंत्रण रखता है। इंटरवल तक, दर्शक इस बारे में सिद्धांतों से भरे हुए हैं कि माधवन के चरित्र वनराज कश्यप ने इस लड़की को क्यों निशाना बनाया, उसे सम्मोहित किया और उसे अपने साथ ले जाने की कोशिश की। फिर भी, खतरे की स्पष्ट भावना के बावजूद, आधी-अधूरी स्क्रिप्ट के कारण फिल्म कमजोर पड़ जाती है।

वनराज (आर. माधवन) अजेयता की इच्छा व्यक्त करता है, लेकिन फिल्म यह पता लगाने में विफल रहती है कि उसने इस योजना की कल्पना कैसे और क्यों की। वह खुद को बलिदान देने के लिए युवा महिलाओं को इकट्ठा करके 'पाइड पाइपर' कैसे बन गया? उसका अतीत क्या था? किस कारण से वह इतना अहंकारी बन गया? उसने अपने शिकार कैसे चुने? बहुत सारे प्रश्न, लेकिन दुख की बात है कि कोई उत्तर नहीं।

पटकथा लेखक आमिल कियान खान, जिन्होंने 'दृश्यम 2' में अपने चुस्त लेखन से आलोचकों और जनता को प्रभावित किया था, इस बार कमजोर पटकथा से निराश करते हैं। 'शैतान' यहीं पर आकर असफल हो जाती है, क्योंकि निर्माताओं ने शायद अपने दर्शकों की बुद्धिमत्ता को कम आंका या विवरण देने में बहुत आलसी थे।

इंटरवल से पहले का भाग आपको बांधे रखता है, क्योंकि आप इस आक्रमणकारी से खतरे को महसूस करते हैं, जो खुद को 'भगवान' कहता है। हालाँकि, दूसरे भाग में माधवन का 'शैतान' का चित्रण केवल लोगों को डराने के लिए बनावटी क्षेत्र में बदल जाता है। उनकी शक्ल, नागिन के अमरीश पुरी की याद दिलाती है और अतिरंजित अनुष्ठान दृश्य केवल परेशानियों को बढ़ाते हैं।

निर्देशक विकास बहल ने 2023 में आई गुजराती फिल्म वश का रीमेक 'शैतान' बनाया है। शैतान में उनकी मेहनत नजर आती है। यह फिल्म काफी रहस्यमयी ढंग से शुरू होती है और माधवन की एंट्री के बाद इसकी वाइब एकदम बदल जाती है। वहीं से फिल्म में दिलचस्प चीजों की शुरुआत होती है।

फिल्म में संभवतः एकमात्र भयानक क्षण वह है जब जान्हवी के रूप में जानकी को माधवन के चरित्र द्वारा 'हंसने' और 'बच्चे की तरह रोने' के लिए मजबूर किया जाता है। इसके अलावा, वह दृश्य जहां वनराज जान्हवी को श्रापयुक्त मिठाई देता है और वह उसे मासूमियत से खा लेती है, आपको उस समय की याद दिलाता है जब आपके माता-पिता ने आपको अजनबियों से निवाला स्वीकार करने के बारे में चेतावनी दी थी।
फिल्म शैतान के साथ एक्ट्रेस ज्योतिका ने हिंदी सिनेमा में वापसी की है। उनका कमबैक काफी दमदार है। फिल्म में वो ज्योति का किरदार निभा रही हैं, जो अपनी बेटी जानकी का हाल देख तड़प रही है। अपने बच्चे की मदद न कर पाने की बेबसी और उसे एक शैतान के चंगुल से छुड़वाने का एक मां का गुस्सा, ज्योतिका बहुत सही निभा गई हैं। उनके इमोशनल सीन्स के साथ साथ, माधवन से लड़ाई का उनका सीन जबरदस्त है।

ज्योति के पति कबीर के किरदार में अजय देवगन का काम भी अच्छा है. एक बेबस पिता जो साम दाम दंड भेद से अपनी बच्ची को बचाने की कोशिश में लगा है, लेकिन उसका बस कहीं नहीं चल रहा। अजय की दमदार परफॉर्मेंस को सीधी टक्कर देते हैं फिल्म के विलेन आर माधवन। माधवन कमाल के एक्टर हैं इस बात में कोई शक नही है। लेकिन शैतान में वो आपको डराते हैं।

जानकी बोदीवाला ने जाह्नवी के किरदार को बखूबी निभाया है। ओरिजनल फिल्म में भी जानकी ने ही आर्या का किरदार निभाया था जो शैतान के वश में आ जाती है। जानकी की परफॉर्मेंस लाजवाब है। जानकी के छोटे भाई ध्रुव के किरदार में अंगद राज ने भी अच्छा काम किया है। फिल्म की सिनेमेटोग्राफी और बैकग्राउंड भी अच्छा है। इसकी एडिटिंग बढ़िया है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement