Get rid of toothache through this Ayurvedic recipe-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Mar 23, 2023 1:01 pm
Location
Advertisement

इस आयुर्वेदिक नुस्खे के जरिये पाए दाँत दर्द से छुटकारा

khaskhabar.com : सोमवार, 16 जनवरी 2023 11:08 AM (IST)
इस आयुर्वेदिक नुस्खे के जरिये पाए दाँत दर्द से छुटकारा
आजकल बच्चों व बड़ों में एक बीमारी आम नजर आने लगी है। यह है दाँत में दर्द की शिकायत होना। थोड़ा बहुत मीठा ज्यादा खाने के कुछ समय बाद ही घर का कोई न कोई सदस्य दांत में दर्द की शिकायत करने लगता है। विशेष रूप से 45 पार महिलाएँ। आयुर्वेद पुराने और तीव्र दोनों तरह के दांतों के दर्द के लिए एक प्रभावी उपाय प्रदान कर सकता है। आयुर्वेदिक उपचार बिना किसी साइड इफेक्ट्स के नेचुरल और समग्र तरीके से समस्या के मूल कारण से निपटकर दर्द से राहत देता है। यह किसी भी पुनरावृत्ति की संभावना को भी समाप्त करता है। यदि आपके बच्चे या आपको दांत में गंभीर दर्द की शिकायत हो रही है, तो राहत के लिए निम्नलिखित आयुर्वेदिक उपाय को आजमाएं।

दर्द का नुस्खा: गंडूशा
गंडूशा में मुंह में तिल के तेल को तब तक स्थिर रखा जाता है जब तक कि नाक और आंखों से पानी का स्राव न होने लगे। गंडूशा आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धिति से जुड़ी एक प्रक्रिया है। यह आमतौर पर आपके दांतों को ब्रश करने से पहले सुबह में किया जाता है। तकनीक में चेहरे की थोड़ी सी लिफ्ट शामिल थी। आखिर में इसे थूक दें और अपने मुंह को गर्म पानी से धो लें। तरल पदार्थों की पसंद स्थिति के आधार पर भिन्न होती है: तेल, घी, फर्मेंटेड दलिया, वाइन, आदि।

विशेष अवसरों पर तिल के तेल का इस्तेमाल दांतों की सडऩ, दांतों के दर्द, हाइपरसेंसिटिविटी और कम्पन को रोकने के लिए किया जाता है। यह मसूड़ों और दांतों से बैक्टीरिया को हटाने में मदद करता है। यह मुंह के छालों को दूर करने में मदद करता है। यह मुंह की मसल्स की भी एक्सरसाइज करता है, जिससे उन्हें मजबूती और टोनिंग मिलती है।

गंडूशा लाभ और महत्व
गंडुश क्रिया का महत्व यह है कि यह ओरल हेल्थ को बनाए रखने में मदद करने का एक पारम्परिक और परखा हुआ तरीका है। दांतों को सफेद करने और सडऩ के इलाज के लिए डेंटिस्ट के पास आपके जाने को गंडूशा करके कम किया जा सकता है। यह आपकी दैनिक दिनचर्या का हिस्सा बन सकता है और इसे रोजाना करने से आप कई फायदों का अनुभव कर सकते हैं।

गंडूशा कई लाभ प्रदान करता है-
यह अच्छी ओरल हाइजीन बनाए रखने में मदद करता है। यह दांतों और मसूड़ों को साफ रखने में मदद करता है। तेल को घुमाने से यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि दांतों में फंसा कोई भी फूड कण मलबे को हटा दिया जाता है और जब तेल थूक दिया जाता है तो उसे बाहर निकाल दिया जाता है।

गंडुशा के तेल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं और यह मुंह में बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है। यह बैक्टीरिया है जो क्षय और कई अन्य समस्याओं का कारण बनता है। यह माउथवॉश की तरह ही काम करता है लेकिन इसमें केमिकल का इस्तेमाल करने के बजाय प्राकृतिक वनस्पति आधारित तेल का इस्तेमाल किया जाता है जो सुरक्षित होता है।

गंडुशा करने का मुख्य कारण मुंह से टॉक्सिन्स को कम करने में मदद करना है। जब टॉक्सिन्स को हटा दिया जाता है, तब इससे पसीना आ सकता है जो यह साबित करता है कि प्रोसेस अच्छी तरह से काम कर रहा है। नियमित रूप से गंडुशा करने से चेहरे की मसल्स को मजबूत करने में मदद मिल सकती है। इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि टॉक्सिन्स डाइजेशन को प्रभावित नहीं करते हैं, इस प्रकार बेहतर डाइजेशन में मदद मिलती है।

गंडुशा ब्रश करने से ज्यादा प्रभावी हो सकता है। ब्रश दांतों के कोनों तक नहीं पहुंच पाता। जब आप ऑयल पुलिंग करते हैं तब तेल दांतों के हर कोने तक पहुंच जाता है। इस प्रकार यह सही तरीके से किए जाने पर सामान्य ब्रशिंग की तुलना में अधिक प्रभावी और सहायक होता है। यह मसूड़ों को मजबूत बनाने में मदद करता है। यह प्लाक को हटाने में भी मदद करता है।

साइनस और अन्य बैक्टीरियल इंफेक्शन गले में खराश का कारण बनते हैं। दर्द को कम करने के लिए गरारे करना एक सिद्ध तकनीक है। एंटीबैक्टीरियल तेल से गरारे करने से यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि गले में खराश के लक्षणों को बेहतर तरीके से प्रबंधित किया जा सकता है।

गंडुशा आपके मुंह को ताजा रखने में मदद करती है। ऐसा माना जाता है कि गंडुशा से दांतों को सफेद करने में मदद मिल सकती है।

आलेख में दी गई जानकारियों को लेकर हम यह दावा नहीं करते कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement