Navratri 2022: Mata Kalratri is worshiped on the 7th day-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 2, 2022 2:27 pm
Location
Advertisement

नवरात्र 2022: 7वें दिन की जाती है माता कालरात्रि की पूजा

khaskhabar.com : शनिवार, 01 अक्टूबर 2022 3:52 PM (IST)
नवरात्र 2022: 7वें दिन की जाती है माता कालरात्रि की पूजा
हिंदू धर्म में नवरात्र का काफी अधिक महत्व है। नवरात्र के दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूप की पूजा की जाती है। पिछली 26 सितम्बर से शुरू हुए नवरात्र समाप्ति की ओर आ गए हैं। 2 तारीख को सप्तमी, 3 तारीख को अष्टमी और 4 अक्टूबर को नवमी है। वहीं 5 अक्टूबर को दशमी अर्थात् दशहरा मनाया जाएगा।

नवरात्र के 7वें दिन माता कालरात्रि की पूजा की जाती है। देवी का यह स्वरूप भयानक काल की तरह है। इनका जन्म रात में हुआ था। इस कारण इन्हेंं कालरात्रि कहते हैं। देवी ने रक्तबीज असुर का वध किया था। ऐसी मान्यता है कि माँ कालरात्रि की पूजा करने वाले भक्तों को भूत, प्रेत या बुरी शक्ति का डर नहीं सताता। मान्यता है कि माँ की पूजा करने से व्यक्ति को उसके हर पाप से मुक्ति मिल जाती है। इसके साथ ही शत्रुओं का भी नाश हो जाता है।

नवरात्रि के 7वें दिन मां कालरात्रि की पूजा करने के लिए सुबह उठकर स्नान कर साफ कपड़े पहनें। इसके बाद मंदिर की साफ-सफाई करें। मां का ध्यान करें। इसके बाद मां कालरात्रि को अक्षत, धूप, गंध, पुष्प और गुड़ का नैवेद्य श्रद्धापूर्वक अर्पित करें। मां को उनका प्रिय पुष्प रातरानी अर्पित करें। इसके बाद मां कालरात्रि के मंत्रों का जाप करें तथा अंत में मां कालरात्रि की आरती करें।

भोग—देवी कालरात्रि को गुड़ का भोग लगाएं।
संदेश—देवी का यह स्वरूप डरे बिना लगातार काम करते रहने का संदेश देता है, तभी कामयाबी मिलती है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement