Navratri 2022: Do not do this work even after forgetting on the day of Navami, Mother Durga gets angry-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 2, 2022 3:13 pm
Location
Advertisement

नवरात्र 2022: नवमी के दिन भूलकर भी ना करें यह काम, रूठ जाती है माँ दुर्गा

khaskhabar.com : सोमवार, 03 अक्टूबर 2022 11:22 AM (IST)
नवरात्र 2022: नवमी के दिन भूलकर भी ना करें यह काम, रूठ जाती है माँ दुर्गा
नवरात्र 2022 का समापन कल नवरात्र के नौ दिन हो जाएगा। इस बार नवरात्र पूरे नौ दिन रहा है। 5 अक्टूबर को दशमी है, जिसे आम तौर पर दशहरा पर्व के नाम से जाता जाता है। नवरात्रि के नौवें दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। सिद्धिदात्री देवी के नाम का अर्थ है वो देवी जो सिद्धि प्रदान करती है। महानवमी के दिन पूरे विधि-विधान से मां सिद्धिदात्री की आराधना की जाती है। इस दिन हवन और कन्या पूजन के साथ ही पावन नवरात्रि का समापन हो जाता है। नवरात्रि में महानवमी के दिन का विशेष महत्व होता है. मान्यता है कि आज के दिन मां दुर्गा की सच्चे मन से पूजा कि जाए तो सारे बिगड़े काम बन जाते हैं। वहीं दूसरी यह भी कहा जाता है कि अनजाने या भूलवश इस दिन हमसे कुछ ऐसी गलतियाँ हो जाती हैं, जिनके चलते माता दुर्गा रूठ जाती हैं। आज हम अपने पाठकोंं को कुछ ऐसी ही सामान्य सी गलतियों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, जिन्हें हमें नवमी के दिन नहीं करना चाहिए।

देर तक न सोएँ
महानवमी के दिन देर तक नहीं सोना चाहिए। इस दिन सुबह जल्दी स्नान करके माता रानी का पाठ करें। यदि व्रत नहीं भी रखा है तो भी जल्दी स्नान करके पूजा अवश्य करें। पूजा को सच्चे मन और श्रद्धा के साथ पूरे विधि विधान के साथ करें।

जामुनी रंग के कपड़े पहनें
महानवमी के दिन काले रंग के कपड़े ना पहनें। इस दिन बैंगनी या जामुनी रंग पहनना शुभ होता है। यह रंग मां सिद्धिदात्री को प्रिय है। इसलिए इसी रंग के कपड़े पहन कर मां की पूजा करें। सम्भव हो सके तो अपनी पत्नी और बच्चों को भी इस रंग के कपड़े पहनाएँ और उन्हें भी पूजा भी जरूर शामिल करें। सपरिवार माता रानी की पूजा करने से माता का आशीर्वाद पूरे परिवार को मिलता है।

दुर्गा सप्तशती और दुर्गा चालासी का पाठ
मां सिद्धिदात्री की पूजा पूरे तन और मन के साथ करनी चाहिए। पूजा की समाप्ति से पहले पूरे भक्तिभाव से दुर्गा चालीसा और दुर्गा सप्तशती का पाठ जरूर करना चाहिए। इस दौरान मन पूरी तरह से एकाग्रचित होना चाहिए। मन में सिर्फ माता रानी का ख्याल और ध्यान आना चाहिए। साथ पूजा करते वक्त किसी से किसी प्रकार की कोई बात न करें।

हवन-पूजन
महानवमी के दिन हवन-पूजन जरूर करना चाहिए। इसके बिना नवरात्रि के पूजा-पाठ अधूरे माने जाते हैं। हवन के दौरान इस बात का विशेष ध्यान रखें कि हवन सामग्री कुंड के बाहर ना गिरे। जितनी देर आप हवन करें हवन कुण्ड की अग्नि पूरी तरह से जलती रहनी चाहिए। हवन करते समय बीच-बीच में हवन कुण्ड में काले तिल और घी डालते रहें जिससे अग्नि अच्छी से प्रज्ज्वलित हो सके।

खाली तिथि होती है नवमी, नया काम नहीं करना चाहिए
नवमी के दिन कोई भी नया काम करने की मनाही होती है। मान्यताओं के मुताबिक नवमी खाली तिथि होती है। मतलब यह है कि इस दिन किए गए कार्यों में सफलता नहीं मिलती है।

व्रत का विधिवत पारण करें
अष्टमी का व्रत रखा है तो महानवमी के दिन कन्या पूजन और उन्हें विदा करने के बाद ही व्रत का विधिवत पारण करें। इससे माता रानी का आशीर्वाद मिलता है।

नहीं खानी चाहिए लौकी
नवमी के दिन लौकी का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर अष्टमी का व्रत रखा है तो महानवमी के दिन पारण में हलवा पूरी और चने से ही व्रत खोलना चाहिए।

आलेख में दी गई जानकारियों को लेकर हम यह दावा नहीं करते कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement