It is auspicious that the arrival of pigeons at home brings misfortune to build a nest-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 2, 2022 2:34 pm
Location
Advertisement

शुभ होता है घर पर कबूतरों का आना, घोंसला बनाना लाता है दुर्भाग्य

khaskhabar.com : शनिवार, 01 अक्टूबर 2022 3:13 PM (IST)
शुभ होता है घर पर कबूतरों का आना, घोंसला बनाना लाता है दुर्भाग्य
शुभ होता है घर पर कबूतरों का आना, घोंसला बनाना लाता है दुर्भाग्य
हिन्दू धर्म ज्योतिष शास्त्र, वास्तु शास्त्र और शकुन शास्त्र पर बहुत ज्यादा महत्त्व देता है। घर में किए जाने वाले प्रत्येक कार्य को इन तीनों शास्त्रों के विद्वानों से सम्पर्क करने के बाद ही करने का मानस बनाया जाता है। लाभ-हानि, शुभ-अशुभ का पूरा ध्यान रखा जाता है। कई चीजों को लेकर शुभ या अशुभ से जोडक़र देखा जाता है। जिस तरह से अपने भविष्य को लेकर ज्योतिष शास्त्र और घर कैसा हो उसके लिए वास्तुशास्त्र का सहारा लिया जाता है उसी तरह से घर में आने वाले पक्षियों के लिए शकुनशास्त्र का सहारा लिया जाता है। शकुनशास्त्र में पशु-पक्षियों से जुड़े संकेतों का खास महत्व माना गया है।

पशु, विशेष रूप से पक्षी हजारों वर्षों से आध्यात्मिक दुनिया के प्रतीक और संदेशवाहक रहे हैं। इस दुनिया में प्रत्येक जानवर एक निश्चित प्रकार के ग्रहों और ऊर्जा से जुड़ा हुआ है और इसलिए वे आपको संकेत दे सकते हैं या भविष्य में क्या होने वाला है, इसके बारे में सचेत कर सकते हैं।
कुछ पक्षियों को अपशकुन का शगुन माना जाता है और कुछ को सौभाग्य और खुशी का प्रतीक माना जाता है। कबूतर को सुख और शांति का प्रतीक माना जाता है। कुछ लोग कबूतर को मां लक्ष्मी का भक्त मानते हैं और घर में इसका आना शुभ बताते हैं तो वहीं दूसरी ओर कुछ लोगों का कहना है कि घर में कबूतर आना शुभ है लेकिन यदि वह घोंसला बनता है तो यह दुर्भाग्य लाता है। इसी तरह से यह भी कहा जाता है कि यदि आप अपने घर की छत पर कबूतरों या पक्षियों को दाना डालते हैं तो हर रोज प्रात: उठते ही सबसे पहले पूरी छत को साफ करना शुभ होता है और यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो यह आपके लिए दुर्भाग्य का कारण बनता है।
आज हम कबूतर या कबूतर के बारे में बात करेंगे कि क्या वे सौभाग्य और सकारात्मकता का संकेत देते हैं या दुर्भाग्य का प्रतिनिधित्व करते हैं।

जब आपके घर या आपके घर के पास कबूतर आ जाए
कबूतर ऐसे पक्षी हैं जो बुध ग्रह के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। वास्तव में, कबूतर एक पक्षी के रूप में बुध का प्रतिनिधित्व करते हैं। बुध और राहु ग्रह के संयोग से बुध की ऊर्जा बनती है। यहां कबूतरों को प्रेम, शांति का दूत माना जाता है। वे इस बात का भी प्रतीक हैं कि प्यार के मामले में भाग्य आपका साथ दे रहा है। इसका कारण यह है कि कबूतर अपने पूरे जीवन में प्रजनन करने की क्षमता रखते हैं और इसलिए उन्हें प्यार के लिए एक अच्छा शगुन माना जाता है।

कबूतर इतने अद्भुत पक्षी हैं कि उनमें आपके घर और आपके शरीर से नकारात्मकता को दूर करने की क्षमता और शक्ति है। वे घर में शांति और सद्भाव लाते हैं और वे देवी लक्ष्मी को भी आकर्षित करते हैं।

जब आप समय निकाल कर कबूतरों को खाना खिलाते हैं और अपने प्रयासों से उन्हें अपने घर में बुलाते हैं, तो यह आपके बृहस्पति बुध को मजबूत करने में मदद करेगा। यह बहुत ही शुभ होता है और किसी भी जीवित प्राणी को विशेष रूप से कबूतरों को खिलाने से आपके जीवन में ढेर सारी खुशियां आने वाली हैं।

हालाँकि, जब आप उन्हें खिलाते हुए आपके घर में आने लगते हैं, तो वे आपके घर पर गंदगी कर सकते हैं और यदि आप उन्हें साफ नहीं करते हैं, तो यह राहु ग्रह के नकारात्मक प्रभावों को सक्रिय कर सकता है। इसलिए जरूरी है कि इसे साफ रखा जाए।

आपके घर में कबूतरों के आने का मतलब यह भी है कि आपका घर बहुत शांत और शांतिपूर्ण है और आपके घर में कंपन सही रास्ते पर जा रहा है।

जब आप कबूतरों को खाना खिलाना शुरू करते हैं, तो वे सकारात्मक स्पंदन पैदा करने लगते हैं जो उस घर में विकीर्ण होने लगते हैं जहां वे आते हैं। इसलिए जब भी कबूतरों को खाना खिलाएं तो उन्हें अनाज और मकई के साथ पानी भी जरूर दें। यह आपके और आपके घर के लिए भी बहुत अच्छा है।

जिन लोगों को शादी या प्रेम संबंधों में समस्या है, वे भी कबूतरों को खाना खिला सकते हैं क्योंकि यह उनके लिए अच्छा होता है। यह विवाह और प्रेम से संबंधित बाधाओं और बाधाओं को दूर कर सकता है और यदि कोई जोड़ा शादी करने की कोशिश कर रहा है, तो यह विवाह प्रक्रिया को तेज कर सकता है।

जब आपके घर में कबूतर आ जाएं और घोंसला बनाना और प्रजनन करना शुरू कर दें

जब कबूतर आपके घर में आते हैं, आपकी खिड़कियों, छतों के पास रहते हैं और जब वे विशेष रूप से अंडे देकर और घोंसले बनाकर प्रजनन करना शुरू करते हैं, तो इसे नकारात्मक माना जाता है।

कबूतर लोगों के पास रहना पसंद करते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वे लोगों के घर में रहना पसंद करते हैं। वे ऐसे क्षेत्रों में रहते हैं जो जीर्ण-शीर्ण, टूटे-फूटे और ऐसे स्थान हैं जो बहुत पुराने लगते हैं और उनमें कोई नहीं रहता है। आपने कई घर देखे होंगे जहां कोई नहीं रहता लेकिन वहां आपको कई कबूतर रहते हुए मिल जाएंगे।

अब जब कबूतर आपके घर अपने घर के आधार के रूप में चुनते हैं और घोंसले बनाना शुरू करते हैं, तो इसे नकारात्मक के रूप में देखा जाता है और यह अच्छा संकेत नहीं है। इसका अर्थ यह भी है कि, नकारात्मक कंपन आपके घर के आसपास हैं।

ध्यान रखें कि यदि कबूतर कुछ अवसरों पर आते हैं, जैसे कि जब आप उन्हें खिलाते हैं या जब वे आते हैं और आपकी छत या खिडक़ी पर बैठते हैं लेकिन अंतत: चले जाते हैं, तो यह एक अच्छे शगुन का संकेत है।

हालांकि, कबूतर वास्तव में आपके घर के अंदर प्रजनन करने की कोशिश कर रहे हैं, यह एक नकारात्मक शगुन है। कबूतरों को प्रजनन से दूर रखने का सबसे अच्छा तरीका यह सुनिश्चित करना है कि आपके घर को इस तरह से व्यवस्थित किया जाए कि वे दूर रहें।

आलेख में दी गई जानकारियों को लेकर हम यह दावा नहीं करते कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement