This man ties a leash around the neck of a child like a dog-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 29, 2022 4:15 pm
Location
Advertisement

बच्चों के गले में कुत्तों की तरह पट्टा बांधकर घुमाता है यह शख्स

khaskhabar.com : गुरुवार, 11 अगस्त 2022 11:24 AM (IST)
बच्चों के गले में कुत्तों की तरह पट्टा बांधकर घुमाता है यह शख्स
अमेरिका के केंटुकी के रहने वाले जॉर्डन ड्रिस्केल ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट driskell_quints_dad पर एक वीडियो डाला है, जो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। इस वीडियो को देखने के बाद एक तरफ जहाँ दर्शक जॉर्डन को कोस रहे हैं वहीं दूसरी तरफ हैरानी जताते हुए अपनी प्रतिक्रियाएँ व्यक्त कर रहे हैं। आप भी इसे एक बार देखने के साथ हैरान हो जाएंगे। आपने अब तक कई लोगों को देखा होगा जो अपने पालतू कुत्ते के गले में पट्टा बांधकर उन्हें घुमाने ले जाते हैं, यहाँ एक शख्स अपने बच्चों के गले में पट्टा बांधकर उन्हें बाहर घुमाने लेकर जाता है। मामला अमेरिका के केंटुकी में रहने वाले जॉर्डन ड्रिस्केल नाम के 31 साल के शख्स से जुड़ा हुआ है। इससे जुड़ा वीडियो शख्स ने खुद अपने सोशल मीडिया पर शेयर किया हैं। वायरल हो रहे वीडियो में जॉर्डन पांचों बच्चों को पांच अलग-अलग लीश की रिबन से पकड़े हुए हैं। बच्चे एक एक्वेरियम के बाहर हैं, जहाँ ये वीडियो बनाया गया है।

मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक जॉर्डन ड्रिस्केल केंटुकी में अपने पांच बच्चों - जोए, डकोटा, होलेन, एशर और गाविन के साथ रहते हैं। वायरल हो रही क्लिप में वे इन पांचों बच्चों को पट्टे से बांधकर सडक़ पर घुमाते दिख रहे हैं। पट्टे का एक सिरा उनके हाथ में था, जबकि दूसरा सिरा बच्चों के पीठ पर लदे बैग में लगा हुआ था। जॉर्डन का कहना है कि उनके बच्चे बाहर जाकर इधर-उधर भागते हैं। यही वजह है कि उनकी पत्नी ब्रायना ने ये तरकीब निकाली है, जिससे बच्चे गुम नहीं होते। इस तरह के बच्चों के लीश का चलन अमेरिका के अलावा भी कई देशों में है। जॉर्ड ने सफाई देते हुए ये भी कहा है कि उनके बच्चों को भी ये तरीका पसंद है।

इस वीडियो को खासी लोकप्रियता मिली है, लेकिन लोगों ने इस पर जमकर निगेटिव कमेंट्स किए हैं। उन्होंने पिता के व्यवहार को सही नहीं बताया है। खुद जॉर्डन और उनकी पत्नी को इसमें कोई खराबी नजर नहीं आ रही। कुछ लोगों ने साफ कहा- बच्चे इंसान हैं, न कि कुत्ते। वहीं कुछ डॉक्टर्स ने भी कहा है कि बच्चों के साथ जानवरों जैसा व्यवहार करने से बेहतर है कि उन्हें घर पर ही रखा जाए।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement