To get the blessings of Bholenath, do this remedy on the last Monday of Sawan-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 26, 2022 12:09 am
Location
Advertisement

भोलेनाथ की कृपा पाने के लिए सावन के अंतिम सोमवार को करें यह उपाय

khaskhabar.com : रविवार, 07 अगस्त 2022 1:25 PM (IST)
भोलेनाथ की कृपा पाने के लिए सावन के अंतिम सोमवार को करें यह उपाय
गत 14 जुलाई से शुरू हुआ सावन का महीना पूर्णिमा के अवसर पर 12 अगस्त को समाप्त होने जा रहा है। कल 8 अगस्त को सावन माह का अन्तिम सोमवार है। सावन के महीने में शिव-पार्वती की पूजा कर उनका आशीर्वाद लिया जाता है। हिंदू धर्म में इस माह का बड़ा महत्व है, क्योंकि यह माह शिवजी का प्रिय महीना माना जाता है। सावन के महीने में नियमों के साथ की गई भगवान शिव की आराधना आपके जीवन में सकारात्मकता लेकर आती है। भगवान शिव के आशीर्वाद से जीवन में सुख-समृद्धि आती है। शिवजी को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा के कुछ नियम उपाय हैं जिनके अनुसार शिवजी की पूजा करने से वे जल्दी प्रसन्न होते हैं। कल चूंकि अन्तिम सोमवार है और यदि आप भगवान भोलेनाथ की कृपा पाना चाहते हैं तो उनकी पूजा करते हुए इन उपायों को आजमाएं। आइये जानते हैं इनके बारे में...

शिवलिंग पर दूध का अभिषेक करें
भगवान शिव की पूजा करने का हमेशा ही शुभ फल मिलता है लेकिन सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा करना और शिवलिंग पर दूध चढ़ाना अति शुभ माना जाता है। यदि आप सावन में हर रोज शिवलिंग पर दूध चढ़ाते हैं तो शिव परिवार का आशीर्वाद मिलता है। आपका मन भी मजबूत होता है क्योंकि मन का कारक ग्रह चंद्रमा है, जो भगवान शिव के सिर पर सुशोभित है। सावन में हर रोज शिवलिंग पर दूध चढ़ाने से कुंडली में चंद्रमा की स्थिति भी मजबूत होती है और मन की चंचलता दूर होती है। साथ ही आप भगवान शिव को केसर मिश्रित खीर का भोग लगाएं, ऐसा करने से नौकरी और व्यवसाय में लाभ प्राप्त होता है।

सोमवार के उपवास से मिलता है विशेष लाभ
सावन के माह में सोमवार को उपवास यानी व्रत करना चाहिए। ऐसा करने से आपकी मन की चंचलता दूर होती है, जिससे आपके अंदर निर्णय लेने की क्षमता बढ़ती है। साथ ही ग्रह-नक्षत्रों का अशुभ प्रभाव दूर होता है और मुश्किल से मुश्किल परिस्थिति में भी खुद को सही तरीके से व्यक्त करते हैं। सावन सोमवार का व्रत करने से भगवान शिव भी प्रसन्न होते हैं और उनका आशीर्वाद आपको प्राप्त होता है।

भोलेनाथ को अर्पित करें ये चीजें
भगवान शिव को भांग, धतूरा और बेलपत्र अर्पित करना बहुत शुभ माना गया है। ये चीजें सावन सोमवार के दिन शिव मंदिर में शिवलिंग को अर्पित करते हैं तो भोलेनाथ का आशीर्वाद प्राप्त होता है और जीवन में कभी भी धन्य धान्य की कमी नहीं होती है और जीवन में आ रही अड़चन भी दूर होती हैं।

करें बेल पत्र का उपाय
बेल पत्र पर चंदन से ऊँ नम: शिवाय लिखकर, इसे महादेव को अर्पित किया जाए तो कोई भी कार्य सिद्ध हो सकता है। इसके अलावा आक का फूल महादेव को अति प्रिय है। यदि इसकी माला बनाकर महादेव को अर्पित की जाए तो वे अत्यंत प्रसन्न होते हैं। यदि बीमारियां पीछा नहीं छोड़तीं तो सावन के महीने में दूध और जल मिलाकर उसमें थोड़े काले तिल डालकर शिवलिंग का अभिषेक करें। इसे बहुत ही चमत्कारी उपाय माना जाता है।

महामृत्युंजय मंत्र का करें जप
ऊँ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृ त्योर्मुक्षीय मामृतात् ऊँ स्व: भुव: भू: ऊँ: जूं हौं ऊँ। सावन माह में हर रोज महामृत्युंजय मंत्र का जप करना चाहिए, ऐसा करने से आरोग्य की प्राप्ति होती है। शास्त्रों में स्वस्थ शरीर को ही संपन्नता का प्रतीक बताया गया है, आप सेहतमंद हैं तो आप जीवन में हर सफलता अर्जित कर सकते हैं। इसलिए सावन माह में प्रतिदिन महामृत्युंजय मंत्र का जप करना चाहिए। इसके साथ ही इस मंत्र के जप से आपका मानसिक स्वास्थ्य भी दुरुस्त होता है।

खान-पान के नियमों का रखें ध्यान
भगवान शिव की कृपा प्राप्त करने के लिए आपको सावन के महीने में अपने खान-पान का भी विशेष ध्यान रखना होगा। इस माह आपको मांस-मदिरा अर्थात् तामसिक भोजन के सेवन से परहेज करना चाहिए। साथ ही इस माह दूध भी नहीं पीना चाहिए क्योंकि सावन के महीने में भगवान शिव को दूध अर्पित किया जाता है। सावन में दूध न पीने के वैज्ञानिक कारण भी हैं।

माता पार्वती का उपाय
ज्योतिष शास्त्र में ऐसा बताया गया है कि जिन लोगों को अपने काम के अनुरूप नौकरी या व्यवसाय में तरक्की नहीं मिल रही हो, ऐसे लोगों को श्रावण मास की शिवरात्रि पर माता पार्वती को चांदी की बिछिया या पायल अर्पित करनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से धन आगमन के नए रास्ते खुल जाते हैं। साथ ही नौकरी और व्यवसाय में तरक्की भी प्राप्त होती है।

आलेख में दी गई जानकारियों को लेकर हम यह दावा नहीं करते कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement