End 2021: If you want an auspicious start in 2022, then do these things that cause poverty, out of the house Slide 3-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Oct 4, 2022 4:55 am
Location
Advertisement

अंत 2021 : 2022 में चाहते हैं शुभ शुरूआत तो कंगाली का कारण बनती इन वस्तुओं को करें घर से बाहर

khaskhabar.com : शुक्रवार, 24 दिसम्बर 2021 12:19 PM (IST)
अंत 2021 : 2022 में चाहते हैं शुभ शुरूआत तो कंगाली का कारण बनती इन वस्तुओं को करें घर से बाहर
काम में न आने वाले कपड़े व जूते-चप्पल
हर परिवार में यह दिखायी देता है कि न चाहते हुए भी हम अपने और परिजनों के लिए जूते-चप्पल और कपड़े खरीदते रहते हैं। इससे हमारे यह अत्यधिक मात्रा में हो जाते हैं। इसकी वजह से घर में बेकार जूतों और कपड़ों का ढेर सा लग जाता है। यदि आपके घर में ऐसे कपड़े-जूते हैं, जो अच्छी अवस्था में हैं और पहनने लायक हैं, लेकिन आप उनका इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं तो उन्हें किसी जरूरतमंद को दे दें। जो जूते और कपड़े खराब हैं उन्हें किसी काम में ले लें या घर से बाहर कर दें। इन सारी बेकार चीजों से घर में नकारात्मकता बढऩे लगती है और आपको धन हानि का सामना करना पड़ सकता है।
खराब घड़ी और ताले
घड़ी समय की सूचक होती है और निरंतर चलती रहती है। इसलिए वास्तु में घड़ी को प्रगति और निरंतर आगे बढऩे से जोडक़र देखा जाता है। यदि आपके घर में टूटी हुई या बंद पड़ी हुई घड़ी हो तो उसे तुरंत घर से बाहर निकाल दें। इससे आपको आर्थिक तंगी व तरक्की में बाधा का सामना करना पड़ सकता है। इसी तरह से घर में बंद पड़े ताले को या तो सही करवा लें या घर से बाहर कर दें। ऐसा कहा जाता है कि बंद ताले की तरह आपकी किस्मत का ताला भी बंद हो जाता है।
खराब इलेक्ट्रॉनिक सामान
वर्तमान युग मोबाइल का युग है। ऐसे में हर घर में कई प्रकार के चार्जर दिखना आम बात है। चार्जर ज्यादा वक्त तक चलने वाले नहीं होते हैं। यह थोड़े समय बाद खराब हो जाते हैं। खराब होते ही हम नया चार्जर ले आते हैं लेकिन उस पुराने चार्जर को घर से बाहर नहीं फेंकते हैं। वास्तु के अनुसार, घर में खराब पड़ी इलेक्ट्रॉनिक चीजों से नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ता है, जिसके कारण आपको आर्थिक तंगी समेत कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए नए साल से पहले इन चीजों को अपने घर से बाहर निकाल दें ।

नोट—यह आलेख ज्योतिषशास्त्र की जानकारियों पर आधारित है। खास खबर डॉट कॉम यह दावा नहीं करता कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ये भी पढ़ें - इस मंदिर में लक्ष्मी माता के आठ रूप

3/3
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement